नैतिक मूल्य

नैतिक मूल्य का हमारे जीवन में बहुत महत्व है । खास तौर पर विद्यार्थी जीवन में। नैतिक जीवन का अर्थ केवल अनुशासन में रहना बड़ों का सम्मान करना अहिंसा पर चलना सदैव सच बोलना ही नैतिकता नहीं है जब तक की हम उसे अपने व्यवहार में ना शामिल कर ले हम अपने विद्यालय में कार नमस्कार को महत्व देते हैं यह भी एक तरह का संस्कार ही है। नैतिक शिक्षा को सभी विद्यालयों में जरूरी कर देना चाहिए क्योंकि इससे हम विद्यार्थियों के चरित्र एवं नैतिक चरित्र को बढ़ाकर पूर्ण रूप से बच्चों में संस्कार ला सकते हैं। भारतीय समाज नैतिक शिक्षा और संस्कृति से भरा है और हम अपने विद्यालय मनुस्मृति में इन्हीं संस्कारों के साथ बच्चों का रूप से विकास करने की कोशिश करते हैं। क्योंकि ऐसा कहा गया है की गुरु द्वारा दी गई शिक्षा सर्वप्रथम नैतिक शिक्षा ही होती है

.